हम तो अल्लाह के है और हम उसी की तरफ लौट कर जाने वाले है ...

 


इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलाही राजिउन

إِنَّا لِلّهِ وَإِنَّـا إِلَيْهِ رَاجِعُونَ

"हम अल्लाह ही के है और अल्लाह ही की तरफ हमे पलट कर जाना है ..."

सूरह बकराह २:१५६

: कुरआन के हवाले से :

और हम तुम्हें कुछ खौफ़ और भूख से और मालों और जानों और फलों की कमी से ज़रुर आज़माएगें और (ऐ रसूल) ऐसे सब्र करने वालों को ख़ुशख़बरी दे दो कि जब उन पर कोई मुसीबत आ पड़ी तो वह (बेसाख्ता) बोल उठे (इन्ना लिल्लाहि व इन्ना इलाही राजिउन) ‘हम तो अल्लाह ही के हैं और हम उसी की तरफ लौट कर जाने वाले हैं’ उन्हीं लोगों पर उनके परवरदिगार की तरफ से इनायतें हैं और रहमत और यही लोग हिदायत याफ्ता है।”

[ सुरह बक़रह 2:155-157 ]  

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने