अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना

अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना

अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना

पोस्ट 01 : अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना

उमर बिन ख़त्ताब रजिअल्लाहु अ़न्हु फ़रमाते हैं कि वो
अल्लाह के नबी ﷺ के पास कुछ क़ैदी ले कर आए । उन कैदियों में एक औ़रत भी थी जो (अपने) बच्चे को तलाश कर रही थी । जब उसे कोई बच्चा मिलता उसे अपने सीने से लगा लेती और दूध पिलाती । ये मंज़र देख कर अल्लाह के नबी ﷺ ने फ़रमाया: इस औ़रत के बारे में तुम्हारा क्या ख़्याल है, क्या ये अपने बच्चे को आग में फैंक सकती है ? हम ने अ़र्ज़ किया: अल्लाह की क़सम, उस का बस चले तो वो कभी ऐसा ना होने दगी । अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: वल्लाह, इस औ़रत को अपने बच्चे पर जितना रह़म है उस से कहीं ज़ियादा अल्लाह अपने बंदों पर रह़ीम है ।

(बुख़ारी अल अ़दब 5999, मुस्लिम: अत्तौबा 4947)
- J,Salafy
Previous Post
Next Post

post written by:

Founder, Designer & Developer of Ummat-e-Nabi.com | Worlds first Largest Islamic blog in Roman Urdu.

0 Comments: